तुरंत मिल रहे आराम के फेर में न पड़ें और दूर के पहलुओं को भी ध्यान में रखें

Management Funda by N. Raghuraman

इस शुक्रवार की सुबह साउथ मुंबई में जब मैं पार्किंग के लिए जगह देख रहा था, बगल में बैठी मेरी बेटी ने एक तरफ इशारा किया, जहां दो कारें खड़ी करने की जगह थी। मैंने उसे नजरअंदाज किया और केवल एक कार के लिए उपलब्ध जगह चुनी, लेकिन यह सुनिश्चित किया कि मेरी दायीं ओर खड़ी कार, मेरी कार से छोटी हो।

मेरी बेटी ने मुझे झिड़कते हुए कहा, ‘आपको उस ज्यादा खुली जगह में पार्किंग में क्या दिक्कत थी, जो मैने दिखाई थी?’ और जब वह बोल रही थी, तभी एक महंगी लिमोज़िन ने वहां पार्किंग की और उसका हीरो जैसा दिखने वाला मालिक उतरकर, सीटी बजाते हुए हमारे सामने से निकल गया। बेटी और ज्यादा नाराज हो गई क्योंकि मेरी ‘मूर्खता’ ने उस ‘हीरो’ जैसे दिखने वाले आदमी को सुविधाजनक जगह दे दी। मैं मुस्कुराया, बाद में जवाब देने का वादा किया और हम काम के लिए चले गए।

जब हम अपनी मीटिंग के बाद पार्किंग स्पेस में लौटे, हमने वहां हंगामा होते देखा। सीटी बजाने वाला ‘हीरो’, पार्किंग सुपरवाइजर पर चिल्ला रहा था। समस्या यह थी कि वह अपनी कार में नहीं घुस पा रहा था क्योंकि जगह नहीं थी। उसकी लाखों की आलिशान कार के बगल में 4X4 एसयूवी खड़ी थी, जो उसकी कार से बड़ी थी और लंबा ‘हीरो’ आड़ा-तिरछा होकर भी कार में नहीं घुस पा रहा था। सुपरवाइजर ने छोटी कद-काठी के एक लड़के को बुलाया, जो ‘हीरो’ से चाबी लेकर कार में घुस गया और गियर को न्यूट्रल में कर दिया। फिर कुछ लड़कों ने धक्का देकर कार बाहर निकाली, तब जाकर ‘हीरो’ शांत हुआ।

मैं अपनी बेटी की ओर मुड़ा और बोला, ‘तुम्हें जवाब मिल गया?’ किसी भी युवा की तरह उसने ‘सफेद बालों की अक्ल’ पर भरोसा करने से इनकार कर दिया और बोली, ‘मैं आपसे सहमत नहीं हूं और ऐसा कभी-कभार ही होता है।’फिर मैं उसे इसकी इच्छा के विरुद्ध उस पब्लिक पार्किंग एरिया के टूर पर ले गया और उसे दो बड़ी कारों के बीच अंतर दिखाया, जहां ड्राइवर-मालिक को पार्किंग के बाद गाड़ी से निकलने या बाद में ड्राइवर सीट पर बैठने के लिए आड़े-तिरछे होकर घुसना पड़ता है। तब मैंने उसे बताया कि मैं आमतौर पर दो कारणों से अपनी कार, छोटी कारों के बगल में खड़ी करता हूं। पहला, हर कार के लिए खिंची पीली लाइन से गेट के बीच हम चालकों को बाहर निकलने के लिए 21 सेमी की जगह मिलती है।

दूसरा, जब बगल वाले पार्किंग स्पेस की कार, आपकी कार से छोटी हो तो आप आसानी से बाहर निकल पाते हैं क्योंकि वह कार एलॉट किए गए हिस्से में कम जगह घेरती है। मैंने पार्किंग स्पेस को लेकर हाल ही में लंदन में हुए शोध के बारे में बताते हुए कहा, ‘इस फैसले के पीछे यह विज्ञान है कि दुनियाभर के कई शहरों में पार्किंग स्पेस करीब 2.4 मीटर गुणा 4.8 मीटर के होते हैं, जिनमें पिछले पांच दशकों में बदलाव नहीं हुआ।

जबकि ज्यादा आराम और नए सुरक्षा मानकों के आधार पर ज्यादा उपकरण देने के लिए कारों का आकार 1970 के दशक से अब तक 55% तक बढ़ गया है।’सबसे ज्यादा बिकने वाले 23 कार ब्रैंड का विश्लेषण करने वाली इस सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 50 वर्षों में कई मॉडल का आकार बढ़ा, जैसे होंडा सिविक का 44% और पोज़ो 208 का 42% तक आकार बढ़ गया। आधुनिक रेंज रोवर पार्किंग स्पेस का 86% तक जगह घेर लेती है और दोनों ओर 21 सेमी जगह बचती है।

फंडा यह है कि तुरंत मिल रहे आराम के फेर में न पड़ें और दूर के पहलुओं को भी ध्यान में रखें।- एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु

Leave a Reply