कुछ करे बिना जय-जयकार नहीं होती!

बहुत से लोग उन्हें भूल चुके हैं, इसलिए नहीं कि हमारी याददाश्त कम है बल्कि इसलिए क्योंकि बीते लम्बे समय से उन्होंने कुछ भी ऐसा नहीं किया जिसे याद रखा जा सके। उन बीते सुनहरे वर्षों में हमने उन्हें स्कॉच पीती महिलाओं के साथ रॉक म्यूजिक पर थिरकते और हवा में धुएं के छल्ले बनाते देखा था क्योंकि उन्हें अपने टूटे परिवार की बजाय हिप्पियों के साथ रहना ज्यादा पसंद था। लेकिन, 60 की उम्र के बाद उन्होंने कुछ अलग करने की सोची। 6 दिसंबर 2019 को वे बड़ी स्क्रीन पर फिल्मकार आशुतोष गोवारीकर की नई फिल्म ‘पानीपत’ में सकीना बेगम के किरदार में नजर आएंगी। जी हां, हम बात कर रहे हैं बीते जमाने की उस ब्यूटी क्ववीन और 1971 की फिल्म ‘हरे रामा-हरे कृष्णा’ की जैनिस उर्फ जसबीर यानी जीनत अमान की जो अब 67 वर्ष की हो चुकी हैं। वह उन चुनिंदा कलाकारों में से है जिन्होंने चार साल पहले “लव, लाइफ एंड स्क्रू अप्स” नाम की वेब सीरीज में काम करना शुरू कर दिया था। उन्होंने हाल ही में इसका दूसरा सीजन पूरा किया है जो कि पहले सीजन के साथ जल्दी ही रिलीज होगा। गोवा के मशहूर फुटबॉलर मैथ्यू गोंसाल्विस जो कि अगले महीने 42 वर्ष के होने जा रहे हैं और सोमवार शाम मापुसा के मैदान पर संतोष ट्रॉफी के वेस्ट जोन क्वालिफायर मुकाबले में राजस्थान पर 2-0 की जीत के दौरान उनका आक्रामक रूप देखने को मिला। पूरे स्टेडियम में दर्शक गोवा की जीत पर जोरदार तालियां बजा रहे थे, वहीं मैथ्यू के लिए अतिरिक्त तालियां बज रही थीं, क्योंकि वह गोवा के सबसे पुराने फुटबॉलर हैं और अब भी खेल रहे हैं। आज जहां उनकी पीढ़ी के अधिकांश खिलाड़ी कोच बन चुके हैं, मैथ्यू गोवा के पहले खिलाड़ी हैं जो अर्जुन अवार्ड से सम्मानित किए हैं और आज भी अपना श्रेष्ठ प्रदर्शन कर रहे हैं।
मैथ्यू के कारण मुझे शाकिर सुभान का ध्यान आया जिसने खाली जेब कुछ वर्ष पहले केरल के कन्नूर जिले के अपने गृहनगर इरिटी से नेपाल के काठमांडू तक दूसरों से लिफ्ट लेकर (हिच-हाइकिंग) यात्रा करने की सोची। इसके लिए उसने कई कंपनियों से स्पान्सरशिप के लिए सम्पर्क किया लेकिन वे मदद की बजाय, उस पर हंसने लगे। लेकिन, वह डिगा नहीं और बिना किसी वास्तविक प्लानिंग के उसने 14 दिनों में देश भर में 6000 किमी की हिच-हाइकिंग यात्रा कर ली और इसमें ट्रक ड्रायवरों ने आगे बढ़कर उसे लिफ्ट देकर मदद की। वह अपने फेसबुक पेज पर अपने यात्रा अनुभवों को शेयर करने लगा, लेकिन हर किसी को उसकी कहानी पर भरोसा नहीं था। इसके बाद उसने अपना यूट़्यूब चैनल ‘मल्लू ट्रैवलर’ शुरू किया ताकि अगली ट्रिप के दौरान उस पर वीडियो के रूप में यात्रा के प्रमाण भी अपलोड कर सके।
इसके बाद वह सड़क मार्ग से नौ देशों की यात्रा करते हुए सिंगापुर पहुंचा, जहां वीजा ऑन अराइवल की सुविधा थी। एक शुभचिंतक से तोहफे में मिले सैकंड-हैंड लैपटॉप और कैमरे से लेस होकर शाकिर ने पिछले साल अक्टूबर में अपनी साहसी यात्रा शुरू की थी और भूटान, म्यांमार, लाओस, वियतनाम, कम्बोडिया, थाइलैंड और मलेशिया होते हुए यह उसका सफर दो महीने चला। शाकिर अपनी यात्राओं के माध्यम से लोगों को यह बताना चाहता है कि “कैसे कम खर्च करें और ज्यादा घूमें।” हालांकि वह इस बार खाली जेब नहीं जा सकता क्योंकि विदेश में वीजा और खाने के लिए पैसा जरूरी होता है। अपनी 66 दिन की यात्रा में दुनिया की बेहतरीन जगहों पर वह मीलों पैदल चलते हुए गांवों से होकर गुजरा और अपने पांच-पांच मिनट के वीडियो में उसने वहां के लजीज खान-पान की झलक दिखाई। इसके बाद अचानक दर्शकों ने उससे अपनी यात्राओं के लम्बे वीडियो पोस्ट करने की मांग की।
अब तक 29-वर्षीय शाकिर कुल 21 देशों की यात्रा कर चुका है, और सभी के बारे में उसने अपने यूट्यूब चैनल ‘मल्लू ट्रैवलर’ पर बताया है। इस चैनल के अब तक 3 लाख 50 हजार सब्सक्राइबर्स और दो करोड़ 35 लाख पेज व्यूज हो चुके हैं। लोग उसके पेज पर जाते हैं या उसे इसलिए फॉलो करते हैं क्योंकि वे भी जानना चाहते हैं कि कम से कम दाम में कुछ पसंदीदा चीजें कैसे की जा सकती हैं। यात्रा के दौरान शाकिर अपने वीडियो खुद शूट करता है और एडिट भी करता है। वीडियो ब्लॉगर कम्यूनिटी में शाकिर द “व्लॉगर’ एक नई पहचान बना चुके हैं, और अब वह बाइक से पूरी दुनिया का चक्कर लगाने का अपना बड़ा सपना पूरा करने की तैयारी में है और यह सफर नवंबर से कस्टमाइज्ड टीवीएस अपाचे आरटीआर 200 बाइक पर शुरू होगा। लेकिन, इस बार स्पांसर उसकी ट्रिप का खर्च उठाने के लिए लाइन लगाकर खड़े हैं!

फंडा ये है कि सेलेब्रिटी हो या आम आदमी, कुछ किए बिना किसी की भी जय-जयकार नहीं हो सकती!
 मैनेजमेंट फंडा एन. रघुरामन की आवाज में मोबाइल पर सुनने के लिए 9190000071 पर मिस्ड कॉल करें

Leave a Reply