खेल का मतलब है पसीना, पबजी बिल्कुल नहीं!

मैं एक कार्यक्रम के लिए इंदौर जा रहा था, जहां मुझे 12वीं के बच्चों के बीच भाषण देना था। जब मैं फ्लाइट में चढ़ा तो यह देखकर खुश हो गया कि मेरे बाजू वाली सीट पर पहले से ही 15-16 साल का लड़का बैठा हुआ था। मैंने तय किया कि मैं उसके साथ बातचीत करूंगा ताकि इस उम्र के बच्चों की सोच को अच्छी तरह समझ सकूं। लेकिन मैं अपनी जगह पर अच्छी तरह से बैठ पाता उससे पहले ही वह लड़का सो गया और उसका सिर बार-बार मेरे कंधे पर गिरने लगा। मेरे ठीक पीछे बैठे उसके पिता ने जब देखा कि मैं परेशान हो रहा हूं तो उन्होंने सीट बदलने की पेशकश की और मैं भी राज़ी हो गया। लग रहा था कि वह लड़का बीमार है। मेरी जिज्ञासा बढ़ी तो मैंने उसके पिता से उसकी गहरी नींद के बारे में पूछ लिया।
तब मुझे पहली बार ‘मेंटल हेल्थ कंडीशन’ बीमारी के बारे में पता चला और यह घंटों वीडियो गेम्स खेलने के कारण होती है। इससे पहले मैंने एक वीडियो गेम ‘डोटा 2, कांउटर स्ट्राइक एंड फोर्टनाइ’ के बारे में भी सुना था जो बच्चों को खेलने की लत लगा देता है। इसलिए मैंने पिता से पूछा कि उनके बेटे को कौन-सा गेम खेलने की लत लगी है? उन्होंने कहा, ‘प्लेयर अननोन्स बैटलग्राउंड’ जैसे बोलचाल की भाषा में पबजी (PUBG या PUBJI) कहा जा रहा है। यह मल्टीप्लेयर शूटिंग गेम है और सिर्फ मोबाइल, पीसी और उस एक्सबॉक्स प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है, जिस पर दुनियाभर के करीब 40 करोड़ बच्चे खेलते हैं। इसे खेलने वाले खिलाड़ियों की संख्या हर शहर में भरपूर है।
पबजी एक युद्ध (कॉम्बेट) आधारित गेम है, जो 100 खिलाड़ियों के साथ शुरू होता है और वे सभी एक द्वीप पर प्लेन से कूदते हैं। एक बार जब वे उतर जाते हैं तो उन्हें द्वीप पर अलग-अलग हिस्सों में जाना होता है और हथियार, गोला-बारूद, दवाइयां और लड़ाई के लिए जरूरी दूसरे सामान उठाने पड़ते हैं। खिलाड़ी द्वीप में जाने के लिए बाइक, कार और नाव का इस्तेमाल कर सकते हैं, वे किसी भी दूसरी जगह को लूटकर अपने विरोधियों को मारने के लिए इसे गुप्त ठिकाना बना सकते हैं। इस गेम में दिए गए टॉस्क में खिलाड़ियों को सभी विरोधियों को मारना होता है और आखिर में 100 खिलाड़ियों में से जो अकेला बचता है वही विजेता बनता है। ऐसे गेम्स में तगड़ी प्रतिस्पर्धा होती है जो खिलाड़ियों को घंटों तक बांधे रखती है और जल्दी ही उनके जीवन को काबू में करती जाती है। इसकी लत लगने का पहला संकेत तब मिलता है, जब खिलाड़ी देर रात 1 बजे से 4 बजे के बीच इसे खेलना शुरू कर देते हैं, क्योंकि उन्हें मुकाबला करने के लिए ज्यादा अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी मिल जाते हैं। यहीं से समस्या बढ़ना शुरू होती है।
सबसे पहले सोने की आदत (स्लीप पैटर्न) खराब होती है, जिससे उनकी कॉलेज में उपस्थिति प्रभावित होती है। माता-पिता के साथ संबंध धीरे-धीरे खराब होते जाते हैं। वे अक्सर अपना कमरा बंद रखते हैं और कोई जब एक्सबॉक्स या फोन लेने की कोशिश करता है तो उनका व्यवहार हिंसक हो जाता है। पिता ने बताया कि उन्हें चिंता तब हुई जब देखा कि उनका बेटा अपनी खुद की स्वच्छता को लेकर लापरवाह हो गया है, क्योंकि इससे पहले वह बहुत सजग रहता था। इस लड़के ने एक बार अपनी मां से यह कह दिया कि वह उनसे इसलिए नफरत करता है, क्योंकि वह उसकी प्राइवेसी में बहुत दखल देती है। उस दिन से उसके पिता के सामने दो लोगों को संभालने की चुनौती आ गई- एक ग़मगीन पत्नी और एक लापरवाह बेटा, जो कभी ऐसा था कि मां की आंखों से एक आंसू नहीं आने देता था। फिर पिता ने बेटे को दूसरे शहर में क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट के पास ले जाने का फैसला किया ताकि किसी को इसकी भनक न लगे और उसके बेटे की गलत छवि न बने। और, ये पिता-बेटे जब लौट रहे थे, मेरी उनसे अचानक ही मुलाकात हो गई।
फंडा यह है कि  खेल का मतलब है शरीर से पसीना निकलना, कंप्यूटर गेम में ऐसा नहीं हो सकता, क्योंकि आप इन्हें सिर्फ अपनी पसंद के कारण खेलते हैं।

Leave a Reply