शहर की पागलपन से भरी जिंदगी और हरियाली से भरी आसान जिंदगी में से आप क्या चुनेंगे?

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु

इटली में रोम से 145 किमी दूर, एक नेशनल पार्क के पास दीवारों से घिरा, मध्यकालीन गांव सैंटो स्टेफानो डी सेसानिओ है, जिसकी आबादी 60 है। गांव का ज्यादातर हिस्सा युद्ध के बाद पलायन में खाली हो गया था, जिससे यहां सुनसान पगडंडियों पर पत्थरों से बने दर्जनों घर खाली पड़े हैं। युवा परिवारों को वापस बुलाने की पहल के तहत यहां के 35 वर्षीय मेयर फेबिओ सांताविका ने पिछले अक्टूबर 40 से कम उम्र के लोगों से अपील की कि वे गांव आकर बिजनेस खोलें। बदले में उन्हें घर का उचित किराया और 8000 यूरो वार्षिक सब्सिडी देने का वादा किया।

मेयर ने सोचा कि अधिकतम 20 लोग रुचि दिखाएंगे। पर उन्हें 27,000 आवेदन मिले, जिसमें अर्जेंटीना और रूस तक से आवेदक थे। आवेदन पढ़ने के बाद मेयर को समझ आया कि कई आवेदकों को रोज काम पर जाने, जिम के लिए भागने और सोने की दिनचर्या से नफरत थी, जिसने उन्हें सोचने पर मजबूर किया। कुछ आवेदकों ने कहा, ‘वे अपनी जिंदगी की कमान संभालना और वास्तविक अस्तित्व खोजना चाहते हैं।’ यहां की हरियाली व शांति ने आवेदकों को आकर्षित किया।

अमेरिकी सरकार के आंकड़ों का उदाहरण देखें। 55 वर्ष या उससे ज्यादा उम्र के करीब 27 लाख अमेरिकी महामारी की वजह से पहले ही तुलना में जल्दी रिटायरमेंट पर विचार कर रहे हैं। वेल्थ मैनेजर्स और फेडरल सर्वे के मुताबिक कोविड-19 की थकान ने इस वर्ग पर भविष्य के लिए उचित बचत के साथ यह फैसला लेने का दबाव बनाया है। साथ ही बुजुर्ग फिजिशयन और शिक्षकों में इन दो पेशों को जल्दी छोड़ने की मंशा से हेल्थकेयर और शिक्षा के क्षेत्र में कमी का खतरा दिख रहा है। बहुत से लोग ज्यादा काम और कम कमाई से थक चुके हैं क्योंकि महामारी लंबी खिंच रही है।

इन दो उदाहरणों को पढ़कर आप सोचेंगे कि अर्थव्यवस्था कैसे चलेगी? जवाब है ‘इनोवेशन इकोनॉमी’ से। अमेरिकी स्टार्टअप ‘कोहेयर हेल्थ’ का उदाहरण देखें जो मरीजों के लिए अग्रिम प्रमाणन करता है। इस प्रक्रिया में डॉक्टरों को स्वास्थ्य बीमाकर्ता से अतिरिक्त प्रकार के इलाज और परामर्श की अनुमति लेनी होती है। इसमें ज्यादातर फोन कॉल, फैक्स या वेबसाइट पर जाकर औपचारिकताएं पूरी होती हैं। यह स्टार्टअप डॉक्टरों की तरफ से यह करता है और मरीज के लिए अपॉइंटमेंट लेता है। मार्च 2020 में यह अपने 16 कर्मचारियों के लिए ऑफिस तलाश रहा था, जो तब अन्य कंपनियों के साथ जगह साझा कर रहे थे।

इस मार्च में संस्थापक डंकन रीस अपने बढ़ते ग्राहकों के लिए प्रक्रिया आसान बनाने में लगे हैं, जबकि उनके कर्मचारियों की संख्या 160 हो गई है और सभी घर से काम कर रहे हैं क्योंकि स्टार्टअप का कोई ऑफिस नहीं है। जहां हम रिटायरमेंट या किसी गांव में बसने पर विचार कर रहे हैं, वहीं विकसित देशों में साइकिल की भारी कमी हो रही है। विक्रेता 2022 के बाद के ऑर्डर ले रहे हैं। जैसे हमारे दादा-परदादा कभी एडवांस देकर बजाज स्कूटर के लिए इंतजार करते थे, उसी तरह अमेरिकी युवा और कामकाजी आबादी साइकिलों का इंतजार कर रही है। कई लोगों को वापस पुरानी दिनचर्या में जाकर भागदौड़ करना अब मुश्किल लग सकता है। मेरा सुझाव है कि किसी से प्रतिस्पर्धा न करें। अपनी जिंदगी अपने नियमों के मुताबिक जिएं।

फंडा यह है कि यह फैसला लें कि आपको किसमें खुशी मिलती है। शहर की भौतिक और पागलपन से भरी जिंदगी में या हरियाली के पास खुद की साइकिल पर घूमते हुए आसान जिंदगी में।

Leave a Reply