2021 में ज्यादातर खर्च करने वाले लोग सोशलाइजिंग पसंद करेंगेे, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग रखकर!

बिल्कुल को छोड़कर कोई भी आम लोगों को प्रभावित नहीं कर सका। इसे प्रिंट की गलती ना समझें। नहीं ऐसा नहीं है। मैं एक व्यक्ति की बात कर रहा हूं, जिसका नाम बिल्कुल है और इस सप्ताह केरल में हुए स्थानीय निकाय चुनाव में अलपुझा में मामूली मतों से जीता। यहां चुनाव लड़ने वाले कुछ प्रत्याशियों के अनोखे नाम थे जैसे किंग कॉन्ग, अन्य कई नामों में रामायण के पात्र लव-कुश। हालांकि अनोखे नाम ने उन्हें मतदाताओं का समर्थन नहीं दिया, बिल्कुल को छोड़कर सभी हार गए, वह कुछ सौ वोटों से जीता।

30 साल पहले गुजर गए उसके पिता का हिंदी के प्रति आकर्षण था, इसलिए उसे यह नाम दिया। भले ही हममें से किसी को नहीं पता कि बिल्कुल अपने मतदाताओं की कैसे सेवा करेगा, पर सत्कार उद्योग से जुड़े व्यापार को मालूम है कि उसे क्या करना है। कोविड से पहले 70 लाख लोगों को रोजगार व 4 लाख करोड़ रु. से ज्यादा कीमत वाला यह देश का दूसरा सबसे बड़ा रोजगार प्रदाता महामारी के दौरान सबसे बुरा प्रभावित हुआ है।

मार्च के बाद 20 लाख से ज्यादा लोगों की नौकरी चली गई और 33% व्यापार प्रतिष्ठान बंद हो गए। पर उद्योग को यकीन है कि 10 लाख के आसपास लोग 2021 के दौरान फिर से काम पर लग जाएंगे लेकिन इसके लिए उन्हें नए तरह के हुनर और नए अवतार में अतिरिक्त जिम्मेदारी लेने की जरूरत है। यही कारण है कि वे अब जल्द ही पूरी ताकत से बिज़नेस में वापसी कर रहे हैं। उन्होंने अत्यधिक कुशल लोगों को फिर से काम पर रखना शुरू कर दिया है, क्योंकि हममें से अधिकांश लोग अभी भी घरों में रहना चाहते हैं और 2020 को अच्छी विदाई देना चाहते हैं।

वे दिन गए जब हम पानीपुरी वाले को अपनी पार्टी में बुलाते थे। उसे अब घरों में नहीं आने दे रहे हैं, ऐसा महामारी के डर के कारण नहीं बल्कि इस दौरान जरूरी स्वच्छता-सुरक्षा ना रख पाने की उसकी क्षमता के कारण कर रहे हैं। इसलिए शेफ लोगों ने अब पार्टी में खाना बनाने के लिए ग्राहकों तक जाना शुरू कर दिया है, जाहिर है ज्यादा कीमत पर।

वो लोग जो अपनी नववर्ष की पार्टी में स्टिर या शेक की हुई स्पिरिट्स (एल्कोहल युक्त पेय) चाहते हैं, पर उनमें मिक्सोलॉजिस्ट बनने की कुशलता नहीं है। उनके लिए एक नई कंपनी एक अच्छी कॉकटेल का सारा आनंद मुहैया कर रही है, भीड़भाड़ भरे पब के उन्माद से दूर पहले से मिक्स कॉकटेल आपकी दहलीज पर डिलीवर कर रही है। आपको सिर्फ अच्छी मुख्य स्पिरिट्स चुनना है और बाकी सब पहले से मिक्स की हुई किट में आप तक पहुंचा दिया जाएगा। फिलहाल यह कंपनी बेंगलुरु, मुंबई, दिल्ली, चंडीगढ़ और पुणे में काम कर रही है।

इसलिए अब शेफ जैसे पेशेवरों को रेस्तरां के बजाय ग्राहकों के घरों से काम करने के लिए तैयार होना चाहिए, वहीं मिक्सोलॉजिस्ट को बार में ग्राहकों के सामने मिलाने के बजाय लैब में ही और ज्यादा कॉकटेल मिक्स करने में सक्षम होना चाहिए! ग्राहक रेस्तरां के नाम को लेकर चिंतित नहीं हैं, उन्हें अतिरिक्त सुरक्षित सेवाओं की फिक्र है। निसंदेह 2021 में ग्राहक डिजिटल भुगतान, पैक करके ले जाने और डिलीवरी के जरिए तेजी से बढ़ रही स्पर्शरहित खरीदारी को तरजीह देंगे, इसकी 30% बढ़ने की उम्मीद है। यही कारण है कि बिलिंग, भुगतान निपटारा, ऑर्डर प्रविष्टि और आदान-प्रदान जैसी सेवाओं के क्षेत्र में काम कर रहे लोगों के लिए काम पर लौटना मुश्किल हो रहा है।

फंडा यह है कि अपने प्रतिष्ठान या व्यापार का नामकरण सेवाओं, ग्राहकों की सुविधा, उत्पाद की गुणवत्ता पर ध्यान देने से ज्यादा महत्वपूर्ण नहीं है। चूंकि 2021 में ज्यादातर खर्च करने वाले लोग सोशलाइजिंग पसंद करेंगेे, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग रखकर!- एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु

Leave a Reply