कम्प्यूटरों में बाहरी घुसपैठ रोकने के लिए फायरवॉल की जरूरत होती है, लेकिन नैतिक लोग ज्यादा जरूरी हैं ताकि फायरवॉल में छेद न किए जाएं

Blog Image 04

मे रे एमबीए के दिनों में मेरे एक प्रोफेसर ने कहा था, ‘चीन की महान दीवार 100 ईसा पूर्व में बनी थी और अगले 100 वर्षों में वह तीनों बड़े युद्ध हार गया। ऐसा इसलिए क्योंकि आपकी सुरक्षा, दीवार से नहीं होती, बल्कि दीवार की सुरक्षा करने वालों से होती है। इसलिए सही लोगों को … Read more

अगर पक्षियों की चहचहाहट से आपका दिल भर आता है, तो अपने घर का एक कोना उनके लिए छोड़ दें या उनके साथ रहने की कोशिश करें

क्या पशुओं को भी इंसानों की तरह संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत जीवन जीने का अधिकार होना चाहिए? धार्मिक और अन्य कारणों से देश में होने वाली पशुओं की निर्मम हत्या को रोकने और कानून की मंजूरी के बिना उनकी हत्या पर रोक लगाने के लिए लगाई गई एक जनहित याचिका की बुधवार को … Read more

खेल का मतलब है पसीना, पबजी बिल्कुल नहीं!

Management Funda, N Raghuraman

मैं एक कार्यक्रम के लिए इंदौर जा रहा था, जहां मुझे 12वीं के बच्चों के बीच भाषण देना था। जब मैं फ्लाइट में चढ़ा तो यह देखकर खुश हो गया कि मेरे बाजू वाली सीट पर पहले से ही 15-16 साल का लड़का बैठा हुआ था। मैंने तय किया कि मैं उसके साथ बातचीत करूंगा … Read more

‘छोटी-छोटी सी बात’ से बनती है खुशहाल ज़िंदगी

सत्तर के दशक में जब मुझे पता चला था कि हम बॉम्बे (अब मुंबई) रहने जा रहे हैं, तो मेरे अंदर जैसे अरुण प्रदीप की आत्मा समा गई। अरुण की एक कम्पनी में ग्रैड-टू सुपरवाइजर के रूप में नई-नई नियुक्ति हुई थी। अगर आपने वह दौर देखा हो, तो मैं शर्त लगा सकता हूं कि … Read more

किताबें पढ़ने के लिए होती हैं, फाड़ने के लिए नहीं !

Management Funda, N Raghuraman

अरब के दार्शनिक अल जहीज ने एक बार कहा था, ‘एक किताब तब तक मौन रहती है, जब तक आप उसे मौन रखना चाहते हैं और जब आप कुछ सुनना चाहते हैं तो वह बोल उठती है। अगर आप कहीं व्यस्त हैं तो वह आपको कभी परेशान नहीं करती, लेकिन अगर आप कभी अकेला महसूस … Read more

ज़िंदगी की टक्कर आपके अंदर से क्या छलकाती है?

Management Funda, N Raghuraman

कल्पना कीजिए कि आप कॉफी का कप पकड़े खड़े हैं और कोई आदमी आपसे भिड़ जाए और पूरी कॉफी छलककर आसपास फैल जाए। सोचिए, ऐसे में आपने कॉफी को क्यों छलकने दिया होगा? आप सोचेंगे कि ये क्या बेवकूफी भरा सवाल है? हां, आपका विचार सही भी हो सकता है। मैं एक कदम और आगे … Read more