शेरनी (महिला वन अधिकारी) की तरह एक बार मौका देकर देखें कि निरक्षर कैसे शिक्षित हो सकते हैं

Sherni

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु गुरुवार की देर रात में हैदराबाद से मुंबई लौट रहा था। फ्रंट रो की पहली सीट पर बैठकर मैं विद्या बालन से उनकी नई रिलीज फिल्म ‘शेरनी’ पर चर्चा करने के लिए उन्हें कॉल करने की कोशिश कर रहा था। मैं उनके किरदार के बारे में सोच रहा था जो अंतर्मुखी … Read more

आस-पास हमेशा ऐसे लोग रखें जो आपको रूलबुक दिखाते रहें क्योंकि वे आपकी प्रगति में ब्रेक नहीं लगाते, बल्कि तेज गति से जाने में मदद करते हैं

N. Raghuraman

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु अगर आप किसी से पूछेंगे कि गाड़ी में ब्रेक क्यों होते हैं, तो वे कहेंगे ‘रोकने के लिए।’ लेकिन जवाब गलत है। क्योंकि गाड़ी में ब्रेक आपको तेजी से ड्राइव करने का आत्मविश्वास देते हैं इसलिए सही जवाब है ‘स्पीड बढ़ाने के लिए।’ आपको अब भी यकीन न हो तो बिना … Read more

दुकानदारो, चिंता न करें, बेचने की कला बहुत नहीं बदली

Shopkeepers

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु इस सवाल का तेजी से जवाब दीजिए। शाहरुख खान किस बिजनेस में हैं? बिना पलक झपके ही आपका तुरंत जवाब होगा, ‘बॉलीवुड’। दुर्भाग्य से आपका जवाब थोड़ा गलत है। सही जवाब है, वे एंटरटेनमेंट बिजनेस में हैं और यही कारण है कि वे फीस लेकर या बिना फीस लिए भी भीड़ … Read more

घर पर बैठे बच्चे को मानसिक रूप से सक्रिय रखें, शरीर की सक्रियता स्वास्थ्य के लिए जरूरी

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु इस मंगलवार ज्यादातर भारतीय आसमान उदास, तेज हवाओं वाला था और थोड़ी बारिश भी हुई। मैं जिस एयरक्राफ्ट में सफर कर रहा था, उसे भी मौसम के कारण रास्तेभर झटके लगे, इसलिए क्रू ने यात्रियों को सीट से उठने से मना किया था। अलग-अलग जगह बैठे कुछ युवा यात्रियों ने शिकायत … Read more

बाजार में शिक्षा का सुविधानजक मॉडल उभर रहा है, सपने पूरा करने के लिए इसका लाभ उठाइए

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु गुजरात सरकार की घोषणा के अनुसार इस सोमवार से सरकारी व निजी दोनों दफ्तर अपने 100 फीसदी स्टाफ के साथ काम कर सकते हैं। उसी सरकार ने ऐसे छात्रों के लिए टीके के दोनों डोज़ में अंतर को कम करके 28 दिन कर दिया है, जो विदेशी विश्वविद्यालयों (विवि) में पढ़ने … Read more

आप भी नौकरी छोड़कर कुछ बेच सकते हैं, पर सोच-विचार और सावधानी जरूर रखें

Work in village

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु पिछले 15 महीनों में लॉकडाउन के दौरान मेरे एक करीबी मित्र की दिनचर्या बदल गई और उन्हें यह पसंद आई। उनका दिन सूर्योदय से बिल्कुल पहले शुरू होता था, जब आसमान नारंगी होता है। वे हरे-भरे मैदान में खड़े होकर, नंगे पैर जमीन की नमी महसूस करते थे और ओस की … Read more

चालाकी भरे सेल्स आखिरकार असफल होती हैं, जिससे संस्थान की छवि हो सकती है प्रभावित

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु याद करें, जब हम हाईवे पर जाते हैं, सड़क किनारे कई ढाबे मिलते हैं, जहां रंगीन झंडा लहराता व्यक्ति हमारा ध्यान खींचने की कोशिश करता है और उसके ढाबे में आने के लिए उकसाता है, साथ ही पार्किंग में मदद करता है। मुझे यह दृश्य शुक्रवार सुबह पांच बजे याद आया, … Read more

जब बात सार्वजनिक व्यवहार की हो, तो विकसित समाज के लिए सजगता पूर्वक निर्णय जरूरी

que at airport

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु कैसे एक छोटा-सा देश भूटान सबसे खुशहाल राष्ट्र बन गया। इस शुक्रवार को उज्जैन में जैन तेरापंथ धर्म संघ के ग्यारहवें आचार्य श्री महाश्रमण जी, साध्वी प्रमुखा कनकप्रभाजी, मुनि कुमारश्रमण जी और अन्य मुनियों से निजी भेंट के दौरान मेरे और उनके बीच ये चर्चा का विषय था। घरवापसी की फ्लाइट … Read more

हमारे पूर्वजों के पास 2021 की बीमारियों की दवा थी पर हम युवा दुर्भाग्य से उन्हें नजरअंदाज कर देते थे

N. Raghuraman

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु हाल ही मैं यात्रा के दौरान 10 महीने बाद मेरी मुलाकात अपेक्षाकृत सफल बिजनेसमैन से हुई। मैंने पूछा, ‘कैसे हैं सर?’ रूखी मुस्कान के साथ उनके जवाब ने मुझे चौंकाया। ‘पहली बात, मैं जिंदा हूं, दूसरी, मैं अब भी संपन्न हूं और 2020 के बाद यह मेरी पहली यात्रा है।’ मैंने … Read more

‘प्लांट पैरेंटिंग’ से रोजगार के नए अवसर, नगरीय निकाय इस साल ऐसे लोगों की तलाश में रहेंगे

Replantation of Tree

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु ‘सर, मेरे दादाजी ने दशकों पहले आम का पेड़ लगाया था। दुर्भाग्यवश जब हम भाइयों ने पैतृक संपत्ति का बंटवारा किया, वह आम का पेड़ भाई की तरफ चला गया। क्या आपका संस्थान इस बड़े पेड़ को सिर्फ 15 फीट दूर, मेरे आंगन में शिफ्ट कर सकता है?’ लुधियाना में वेस्ट … Read more