शेरनी (महिला वन अधिकारी) की तरह एक बार मौका देकर देखें कि निरक्षर कैसे शिक्षित हो सकते हैं

Sherni

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु गुरुवार की देर रात में हैदराबाद से मुंबई लौट रहा था। फ्रंट रो की पहली सीट पर बैठकर मैं विद्या बालन से उनकी नई रिलीज फिल्म ‘शेरनी’ पर चर्चा करने के लिए उन्हें कॉल करने की कोशिश कर रहा था। मैं उनके किरदार के बारे में सोच रहा था जो अंतर्मुखी … Read more

आस-पास हमेशा ऐसे लोग रखें जो आपको रूलबुक दिखाते रहें क्योंकि वे आपकी प्रगति में ब्रेक नहीं लगाते, बल्कि तेज गति से जाने में मदद करते हैं

N. Raghuraman

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु अगर आप किसी से पूछेंगे कि गाड़ी में ब्रेक क्यों होते हैं, तो वे कहेंगे ‘रोकने के लिए।’ लेकिन जवाब गलत है। क्योंकि गाड़ी में ब्रेक आपको तेजी से ड्राइव करने का आत्मविश्वास देते हैं इसलिए सही जवाब है ‘स्पीड बढ़ाने के लिए।’ आपको अब भी यकीन न हो तो बिना … Read more

दुकानदारो, चिंता न करें, बेचने की कला बहुत नहीं बदली

Shopkeepers

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु इस सवाल का तेजी से जवाब दीजिए। शाहरुख खान किस बिजनेस में हैं? बिना पलक झपके ही आपका तुरंत जवाब होगा, ‘बॉलीवुड’। दुर्भाग्य से आपका जवाब थोड़ा गलत है। सही जवाब है, वे एंटरटेनमेंट बिजनेस में हैं और यही कारण है कि वे फीस लेकर या बिना फीस लिए भी भीड़ … Read more

आप भी नौकरी छोड़कर कुछ बेच सकते हैं, पर सोच-विचार और सावधानी जरूर रखें

Work in village

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु पिछले 15 महीनों में लॉकडाउन के दौरान मेरे एक करीबी मित्र की दिनचर्या बदल गई और उन्हें यह पसंद आई। उनका दिन सूर्योदय से बिल्कुल पहले शुरू होता था, जब आसमान नारंगी होता है। वे हरे-भरे मैदान में खड़े होकर, नंगे पैर जमीन की नमी महसूस करते थे और ओस की … Read more

हिंसा को प्रोत्साहित न करें, लेकिन अपने लोकतांत्रिक अधिकारों के लिए लड़ना और आवाज उठना बहुत जरूरी

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु तीन भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों, भगत सिंह, सुखदेव थापर और शिवराम राजगुरु को 91 साल पहले 23 मार्च को अंग्रेजों ने लाहौर में फांसी पर चढ़ा दिया था। भगत सिंह की 71 वर्षीय भांजी गुरजीत कौर ने शहीद दिवस पर कहा, ‘भगत सिंह हमेशा अपने लिए पहल करने में विश्वास रखते थे। … Read more

जिंदगी में तृप्ति और ठहराव जैसा कुछ नहीं होता; यह खुले कोष्ठकों की तरह है, जितना चाहें, भरते जाएं

Funda by N. Raghuraman

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु इस मंगलवार मैं मध्य प्रदेश के मंदिरों के शहर उज्जैन से गुजर रहा था। मैंने वहां सड़क पर एक बुजुर्ग व्यक्ति (करीब 80 वर्षीय) को देखा, जिनके मुंह में नीम की दातुन थी और उनके दोनों हाथ फोन पर व्यस्त थे। वे उसमें कॉलेज के उस युवा लड़के ही तरह डूबे … Read more

आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के सही इस्तेमाल से करिअर में मिल सकती है अच्छी स्थिरता

German Shepherd Dog

अगर आपकी रुचि टेक्नोलॉजी, खासतौर पर आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) में है तो यह उदाहरण आपके लिए है। ग्वालियर की बीएसएफ एकेडमी के नेशनल डॉग ट्रेनिंग सेंटर से टिंकी नाम की जर्मन शेफर्ड को मुजफ्फरनगर में कॉन्सटेबल के पद पर नियुक्त किया गया था। सूंघने की उसकी शानदार क्षमता के कारण उसे 6 साल में 6 … Read more

जब बात जिंदगी की गुणवत्ता और स्तर की होगी, तो हर घर में मतभेद तो होंगे ही

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु हर पीढ़ी कुछ हासिल करती है। हमारे माता-पिता ने हमें मूलभूत सुविधाएं देने और हमारी अच्छी सेहत सुनिश्चित करने के लिए मेहनत की। फिर जब हमारी पीढ़ी को जिम्मेदारी मिली तो हमने खुद को और माता-पिता को सहूलियतें देने के लिए सुविधाएं और सामान जोड़े। लेकिन अब हमारे बच्चे न सिर्फ … Read more

महिलाएं सिर्फ सीमा पर सेना का पेट भरने और चुनाव जिताने का काम नहीं करतीं, बल्कि आतंकवाद से लड़ने के लिए हथियार भी उठा सकती हैं

N. Raghuraman

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु सोमवार को आए आम बजट में महिला सशक्तिकरण से जुड़े कुछ प्रावधान भी किए गए। उल्लेखनीय कदम यह है कि महिलाएं अब नाइट-शिफ्ट समेत किसी भी शिफ्ट में काम कर सकेंगी। इसके लिए सुरक्षा संबंधी खास कदम उठाए जाएंगे। महिला सशक्तिकरण से जुड़े इस कदम से मुझे हाल ही में वायरल … Read more

जब छोटे लोग और जगहों की सुशासन में देखभाल की जाती है, तो समाज को इससे अनदेखे बड़े लाभ मिलते हैं

एन. रघुरामन, मैनेजमेंट गुरु केरल की मीनाचिल नदी की सहायक नदियों कैपुझा और पेन्नार तथा वेंबनाड झील के किनारों पर लोगों के लिए 72 वर्षीय राजप्पन उर्फ राजू का चेहरा जाना-पहचाना है। ऐसा इसलिए क्योंकि दिव्यांग राजू के दोनों पैर जन्म जात लकवाग्रस्त हैं, फिर भी बीते 15 वर्षों में उन्होंने एक भी दिन अपना … Read more